पाण्डुलिपि क्या है तथा इसकी क्या उपयोगिता है

पाण्डुलिपि क्या है तथा इसकी क्या उपयोगिता है ?

भारत में छापाखाना के विकास के पहले हाथ से लिखकर पाण्डुलिपियों को तैयार करने की पुरानी एवं समृद्ध परम्परा थी । वैसी हस्तलिखित साहित्य सामाग्री जो पुस्तक के रूप में छपकर लोगों के बीच न आई हो, पाण्डुलिपि कहलाती है । भारत में संस्कृति, अरबी एवं फारसी साहित्य की अनेकानेक तस्वीर युक्त सुलेखन कला से परिपूर्ण साहित्यों की रचनाएँ होती रहती थीं । इन्हें मजबूती प्रदान करने के लिए सजिल्द भी किया जाता था । फिर भी पाण्डुलिपियाँ काफी नाजुक और महँगी होती थी । पाण्डुलिपियों की लिखावट कठिन होने एवं प्रचुरता से उपलब्ध नहीं होने के कारण ये आम जनता की पहुँच के बाहर थी ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here