हिन्द चीन में फ्रांसीसी प्रसार का वर्णन करें

हिन्द चीन में फ्रांसीसी प्रसार का वर्णन करें ।

फ्रांसीसी कम्पनी हिन्द-चीन में प्रसार करने में सक्रिय था । फ्रांसीसी व्यापारियों के साथ-साथ पादरी भी इस क्षेत्र में आने लगी । 1747 ई. के बाद फ्रांस अन्नाम में रुचि लेने लगा । किन्तु अभी भी इस क्षेत्र में उसकी पकड़ कमजोर थी । उन्नीसवीं सदी में इस क्षेत्र में फ्रांसीसी पादरियों की बढ़ती गतिविधियों के विरुद्ध उग्र आंदोलन प्रारम्भ हो गया । इससे फ्रांस को अपनी सैन्य शक्ति के प्रयोग का बहाना मिला । उसने सैन्य बल के आधार पर 1862 ई. में अन्नाम को संधि के लिए बाध्य किया । इसी प्रकार 1863 ई. में कम्बोडिया पर तथा 1883 ई. में तोंकिन पर अधिकार कर लिया । इस प्रकार बीसवीं सदी की शुरुआत तक संपूर्ण हिन्द-चीन क्षेत्र फ्रांस के नियंत्रण में आ गया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here