साम्राज्यवाद की क्या विशेषताएं है

साम्राज्यवाद की क्या विशेषताएं है ?

समाजवाद का मोटे तौर पर अर्थ है- समाज में समानता की स्थापना करना । समानता का अर्थ है— आर्थिक और राजनीतिक समानता । इसमें अवसरों की समानता, योग्यता के अनुसार कार्य करने का अधिकार, समान कार्य के लिए समान वेतन तथा जीवन की न्यूनतम आवश्यकताओं की पूर्ति उपलब्ध करने की भावना सन्निहित है । उसका अन्तिम लक्ष्य वर्ग-संघर्ष का अंत कर वर्गहीन समाज की स्थापना करना है । इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिए उत्पादन एवं वितरण के साधनों पर राष्ट्र के अधिकार को उचित ठहराया गया है ।

समाजवाद के तीन मुख्य सिद्धांत है जिस पर सभी समाजवादी सहमत हैं—

प्रथम- समाजवाद निजी पूँजीवाद की आलोचना करता है ।

द्वितीय- समाजवाद श्रमिक वर्ग और मजदूरों की आवाज है । एक तरफ यह व्यावसायिक वर्ग का पक्ष लेता है तो दूसरी तरफ पूंजीपतियों या मिल-मालिकों के शोषण मूलक चरित्रों का विरोध करता है ।

तृतीय- समाजवाद धन के वितरण के संबंध में न्याय चाहता है- अर्थात् उत्पादन के सभी साधनों पर समस्त जाति या समाज का स्वामित्व मान लिया जाए ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here