लार्ड लिटन ने राष्ट्रीय आंदोलन को गतिमान बनाया कैसे

लार्ड लिटन ने राष्ट्रीय आंदोलन को गतिमान बनाया कैसे ?

देशी भाषा समाचार-पत्र अधिनियम वर्नाक्यूलर प्रेस ऐक्ट 1878 ई. में लॉर्ड लिटन के द्वारा लाया गया । देशी समाचार-पत्रों ने खुलकर साम्राज्यवादी नीतियों के विरुद्ध राष्ट्रवादी भावना को उत्पन्न किया । इसी को ध्यान में रखते हुए 1878 ई. में लिटन ने देशी भाषा समाचार-पत्र अधिनियम के माध्यम से समाचार-पत्रों पर अधिक प्रतिबंध तथा इसे अपने नियंत्रण में लाने का प्रयास किया । यह अधिनियम देशी भाषा समाचार-पत्रों के लिए मुँह बन्द करने वाला एवं भेदभावपूर्ण साबित हुआ । लिटन नहीं चाहता था कि सरकार की नीतियों के खिलाफ देशी समाचार-पत्र जनता के बीच असंतोष को उत्पन्न करें । लेकिन, अकाल और सरकारी अपव्यय की खबरों ने जनता के बीच भारी असंतोष को जन्म दिया । लॉर्ड लिटन के वर्नाक्यूलर प्रेस ऐक्ट ने राष्ट्रीयता की भावना एवं जन-असंतोष में तो उबाल लाने का कार्य किया ही, साथ-ही-साथ राष्ट्रीय आंदोलन को भी गतिमान बनाया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here