बिहार में नहरों के विकास से संबंधित समस्याओं को लिखें

बिहार में नहरों के विकास से संबंधित समस्याओं को लिखें ?

बिहार में जल संसाधन का उपयोग मुख्य रूप से सिंचाई, गृह एवं औद्योगिक संसाधनों में होता है । बिहार में सिंचाई के लिए नहर प्रमुख साधन है । यहाँ वर्तमान में 95 प्रतिशत से अधिक जल संसाधन का उपयोग सिंचाई में होता है । इसके अलावा अनियमित एवं असमान वर्षा भी होती है । यहाँ कुछ फसलें शीत ऋतु में होती है और यह मौसम शुष्क रहता है । यहाँ मैदानी भागों में नहरों का विकास अधिक हुआ है, क्योंकि यहाँ पर समतल भूमि, मुलायम मिट्टी, विस्तृत कृषि क्षेत्र तथा सतत् वाहिनी नदियों द्वारा जल की आपूर्ति होती है । उत्तरी बिहार की अधिकतर नदियाँ हिमालय से निकलने के कारण सतत् वाहिनी हैं । यहाँ की नहरों में वर्ष भर पानी रहता है, इसके विपरीत दक्षिण गंगा के मैदान कर नहरें छोटानागपुर पठार से निकलने के कारण बरसाती हैं । इनमें वर्ष भर पानी नहीं रहता ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here